Thursday, 1 November 2012










                     लिखना एक ज़िद ही तो है! इससे पहले कि काल तुम्हें
                     गायब करे, तुम स्वयं को गायब करते जाते हो!
                     देखो, यह मैं हूँ! नहीं हूँ...
                                   --गगन गिल 








                   "आखिर हम किताबें क्यों पढ़ते हैं?
                  कुछ सीखने के लिए, दिल बहलाने के लिए, अपने मानसिक
                   संसार के लिए...सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि और भी बहुत कुछ
                    पाने के लिए!"
                                                            ---जवाहरलाल नेहरू









            रचना जिंदगी की आलोचना होती है! जिंदगी की कल्पना की ओर
            से की गई जिंदगी के यथार्थ की आलोचना! जिंदगी की समर्थता
             की ओर से की गई जिंदगी की असमर्थता की आलोचना!
                                                   --अमृता प्रीतम  








                         ज्ञानं प्रधानं न तु कर्महीनं कर्म प्रधानं न तु बुद्धिहीनम्
                                                                           (भागवत 4/24/75)
      
                         ज्ञान प्रधान है परंतु कर्महीन नहीं और कर्म भी प्रधान है
                          परंतु बुद्धिहीन नहीं! 

Saturday, 4 August 2012


कभी-कभी मौत भी
जब एक किताब लिखती है
तो जिन्दगी से
एक भूमिका लिखवाने के लिए आती है... 
-----अमृता प्रीतम

"संप्रेषणीयता का सवाल केवल शिल्प और भाषा का सवाल नहीं है! संप्रेषणीयता तो शत-प्रतिशत आदि से लेकर अंत तक मानवीय और प्राकृतिक संबंधों की वजह से ही बनती है और जहाँ इसका अभाव होता है, वहीं संप्रेषणीयता लुप्त हो जाती है!" ---केदारनाथ अग्रवाल  

लगता है सारी जिंदगी जो भी सोचती रही, लिखती रही, 
वह सब शायद देवताओं को जगाने का ही एक प्रयत्न था-
उन देवताओं को जो इंसान के भीतर सो गए हैं!       ----अमृता प्रीतम


मैं साहित्य को मनुष्य की दृष्टि से देखने का पक्षपाती हूँ;
जो वाग्जाल मनुष्य को दुर्गति, हीनता और परोपेक्षिता से ना बचा सके,
उसके ह्रदय को परदुःखकातर न बना सके, 
उसे साहित्य कहने में मुझे संकोच होता है!       ----आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी


सरस्वती महाभागे विद्ये कमललोचने।
विद्यारूपे विशालाक्षि विद्यां देहि नमोस्तुते॥
O Devi Saraswati, the most Auspicious Goddess of Knowledge with Lotus-like Eyes, An Embodiment of Knowledge with Large Eyes, Kindly Bless me with Knowledge. I Salute you.