Thursday, 1 November 2012










                     लिखना एक ज़िद ही तो है! इससे पहले कि काल तुम्हें
                     गायब करे, तुम स्वयं को गायब करते जाते हो!
                     देखो, यह मैं हूँ! नहीं हूँ...
                                   --गगन गिल 








                   "आखिर हम किताबें क्यों पढ़ते हैं?
                  कुछ सीखने के लिए, दिल बहलाने के लिए, अपने मानसिक
                   संसार के लिए...सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि और भी बहुत कुछ
                    पाने के लिए!"
                                                            ---जवाहरलाल नेहरू









            रचना जिंदगी की आलोचना होती है! जिंदगी की कल्पना की ओर
            से की गई जिंदगी के यथार्थ की आलोचना! जिंदगी की समर्थता
             की ओर से की गई जिंदगी की असमर्थता की आलोचना!
                                                   --अमृता प्रीतम  








                         ज्ञानं प्रधानं न तु कर्महीनं कर्म प्रधानं न तु बुद्धिहीनम्
                                                                           (भागवत 4/24/75)
      
                         ज्ञान प्रधान है परंतु कर्महीन नहीं और कर्म भी प्रधान है
                          परंतु बुद्धिहीन नहीं!